Posted in गीत-लोकगीत, छंद, साहित्‍य रत्‍न

गणेशजी की आरती

श्रीशमी गणेश, नवागढ़

(‘ओम जय जगदीश हरे’ के तर्ज पर)

Singer-Dileep Jaiswal
Singer-Naina Thaukur
ओम जय श्री गणराजा, स्वामी जय श्री गणराजा ।
बंधु षडानन पितु शिव, मातु हिंगुलाजा ।।
रिद्धि सिद्धि के स्वामी,  सुत शुभ अरु लाभे  ।
सकल संपदा के दाता, हमरे भाग जागे ।
मूषक वाहन साजे, कर मुद्रा धारी ।
मोदक भोग सुहाये, भगतन शुभकारी ।।
प्रथम पूज्य गणनायक, गौरी सुत प्यारे ।
विकटमेव भालचंद्र, अतिप्रिय नाम तुम्हारे ।।
वक्रतुंड धूम्रवर्ण, गजमुख इकदंता ।
गजानन श्री लंबोदर, विघ्नहरण सुखकंता ।।
विघ्न-विनाशक वर सुखदायक, ज्ञान ज्योति दाता ।
सकल कुमति के नाशक, सुमति सुख लाता ।
अष्टविनायक अति जीवंता, हिन्द भूमि राजे ।
श्रद्धा सहित पुकारत, भगतन हिय साजे ।।
तनमन करके अर्पण, श्रद्धा सहित  ध्‍यावो ।
कहत भक्‍त कवि 'रमेशा, मनवांछित फल पावो
-रमेश चौहान
Posted in गीत-लोकगीत, साहित्‍य रत्‍न

भारत माता की आरती

स्वर्ग से है बड़ी यह धरा मंगलम
मातरम मातरम मातरम मातरम
हिन्द जैसी धरा और जग में कहां
विश्व कल्याण की कामना हो जहां
ज्ञान की यह धरा मेटती घोर तम
मातरम मातरम मातरम मातरम
स्वर्ग से है बड़ी यह धरा मंगलम
मातरम मातरम मातरम मातरम
श्याम की बांसुरी कर्म का नाद है
आचरण राम का नित्य संवाद है
हिन्द है वह धरा है जहां यह मरम
मातरम मातरम मातरम मातरम
स्वर्ग से है बड़ी यह धरा मंगलम
मातरम मातरम मातरम मातरम
जय जयतु भारती जय जयतु भारती
कर जोर कर नित्य ही हम करे आरती
मातु ये है हमारी व संतान हम
मातरम मातरम मातरम मातरम
स्वर्ग से है बड़ी यह धरा मंगलम
मातरम मातरम मातरम मातरम
-रमेश चौहान