Home

हिन्‍दी-रत्‍न

भारतीय संस्‍कृति और हिन्‍दी साहित्‍य

सु-स्‍वागतम्!

हिन्‍दी रत्‍न में आपका स्‍वागत है । यहां आप भारतीय संस्‍कृति सं संबंधित आलेख एवं सममायिक आलेख पढ़ सकते हैं इसके साथ आप मेरे हिन्‍दी कविताओं का आनंद ले सकते हैं ।

हिन्‍दी भाषा को हिन्‍दी ही रहने देने की आवश्‍यकता है । हिन्‍दी की अपनी स्‍वयं की लिपि (देवनागरी) है, इसे देवनागरी लिपि में ही लिखा जाना चाहिए ।

हिन्‍दी भारत की आत्‍मा है । यह एक समृद्ध भाषा है, यह विश्‍व में सर्वाधिक उपयोग लाई जाने वाली भाषा की सूची में तेजी से आगे बढ़ रहा है । हिन्‍दी अपनायें, हिन्‍दी को समृद्ध बनायें ।

-रमेशकुमार सिंह चौहान
%d bloggers like this: