नवगीत-मैं गदहा घोंचू हूँ, कुछ समझ नहीं पाता

मैं भारत को आजाद समझता
वे आजादी के लगाते नारे
जिसे मैं बुद्धजीवी कहता
उनसे वे निभाते भाईचारे

नवगीत-घुला हुआ है वायु में मीठा-सा विष गंध

जहां रात-दिन धू-धू जलते,
राजनीति के चूल्हे
बाराती को ढूंढ रहे हैं,
घूम-घूम कर दूल्हे