Categories
आलेख रत्‍न धर्म-कर्म-अध्‍यात्‍म

रामचरितमानस के 108 महत्वतपूर्ण दोहे

रामचरितमानस-

रामचरितमानस विश्व की प्रसिद्ध कृति है। मर्यादा पुरुषोत्तम श्री रामचंद्र जी की जीवनी होने के साथ-साथ एक मानवतावादी पुरुष का कर्म प्रधान चित्रण है। रामचरितमानस बाबा तुलसीदास की अमर कृति है जिसे केवल ना केवल भारत में अपितु पूरे विश्व में श्रद्धा के साथ पढ़ा जाता है। रामचरितमानस के पूर्व भगवान राम की कथा संस्कृत भाषा में वाल्मीकि कृत रामायण ग्रंथ में कही गई है। रामचरितमानस रामायण की तुलना में कहीं अधिक प्रचलित हुआ इसके पीछे विद्वानों का मत है कि यह सहज सुबोध सरल और लोक भाषा प्रधान है। मैं मानता हूं कि यदि यह केवल भाषा की सहायता से हैं ग्राह्य होता तो विश्व की अनेक भाषाओं में इनका अनुवाद नहीं किए जाते न हीं इस पर असंख्य शोध पत्र लिखे जाते । मैं मानता हूं की श्रीरामचरितमानस भाषा के साथ साथ कथ्य की प्रस्तुतीकरण के कारण जनमानस में प्रचलित हुआ है। इस ग्रंथ के नायक को परमपिता परमात्मा के रूप में स्वीकार करते हुए भी एक कर्म वादी यथार्थवादी और मानवतावादी के रूप में प्रस्तुत किया जाना ही इस ग्रंथ की विशेषता है। श्री रामचंद्र जी का चरित्र विश्व के किसी भी व्यक्ति के लिए अनुकरणीय है । एक पुत्र के रूप में, एक भाई के रूप में, एक मित्र के रूप में, एक पति के रूप में और यहां तक एक शत्रु के रूप में भी श्री राम एक आदर्श एवं मर्यादा के अनुकूल हैं। श्री रामचंद्र जी के चरित्र में कहीं भी अतिशयोक्ति रूप से चित्रण नहीं मिलता। श्री रामचंद्र जी के सारे चरित्र एक मानवीय देह के द्वारा किया जा सकता है । इसलिये श्रीराम का चरित्र अनुकरणीय है ।

गोस्वामी तुलसीदास-

श्री रामचरितमानस के रचयिता गोस्वामी तुलसीदास आज ना केवल भारत के अपितु विश्व के जनमानस में रचे बसे हैं। तुलसीदास जी के संबंध में उनकी पत्नी रत्नावली के बारे में कहा जाता है कि एक बार जब तुलसीदास जी पत्नी वीरह से व्याकुल हुए तू रत्नावली उन्हें डांटते हुए ईश्वर के प्रति प्रेम करने को कहा इसके बाद तुलसीदास विरक्त होकर राम भक्ति में तल्लीन हो गए और हनुमान जी की आशीर्वाद से कई ग्रंथों की रचना की इन सभी ग्रंथों को जनमानस ने ना केवल स्वीकार किया अपितु इन ग्रंथों की पूजा भी की जो अनवरत आज भी जारी है चाहे वह हनुमान चालीसा हो चाहे हनुमान बाहुक हो चाहे वह रामाज्ञा हो चाहे वह रामचरितमानस हो सभी ग्रंथ अत्यंत पावन एवं मानव जीवन को सार्थक करने वाले हैं।

राम चरित मानस के 108 महत्‍वपूर्ण दोहे-

ऐसे तो संपूर्ण रामचरित मानस पठनीय एवं अनुकरणीय है । इस कर्म-ज्ञान सम्रद्र से कुछ बूँदे मोती के रूप में प्रस्‍तुत करने का प्रयास है-

राम चरित मानस के 108  महत्‍वपूर्ण दोहे
राम चरित मानस के 108 महत्‍वपूर्ण दोहे

बालकाण्‍ड के के महत्‍वपूर्ण दोहे-

संत सरल चित्र जगत हित, जानी सुभाउ सनेहु ।

बाल बाल विनय सुनि करी कृपा, राम चरण रति देहु ।।1।।

भलो भलाइहि पै लहइ, लहइ निचाइही नीचु ।

सुधा सराहिअ अमरता, गरल सराहिअ यही मीचु ।।2।।

जड़ चेतन जग जीव जत, सकल राममय जानि ।

बंधउॅ सबके पद कमल, सदा जोरि जुग पानि ।।4।।

भाग छोट अभिलाषु बड, करउॅ एक विश्वास ।

पैहहि सुख सुनी सुजन, सब खल करिहहिं उपहास ।।5।।

बिबुध बिप्र बुध ग्रह चरण, बंदी कहउॅ कर जोरि ।

होइ प्रसन्न पुरवहु सकल, मंजू मनोरथ मोरी ।।6।।

राम नाम मनिदीप धरूँ, जीह देहरी द्वार ।

तुलसी भीतर बाहेरहुँ, जौ चाहसि उजियार ।।7।।

ब्रह्म जो व्‍यापक बिरज अज, अकल अनीह अभेद ।

सो कि देह धरि होइ नर, जाहि न जानत बेद ।।8।।

प्रभु समरथ सर्बग्‍य सिव, सकल कला गुन धाम ।

जोग ग्‍यान बैराग्‍य निधि, प्रनत कलपतरू नाम ।।9।।

असुर मारि थापहिं सुरन्‍ह, राखहिं निज श्रुति सेतु ।

जग बिस्‍तारहिं बिसद जस, राम जन्‍म कर हेतु ।।10।।

जोग लगन ग्रह बार तिथि, सकल भए अनुकूल ।

चरू अरू अचर हर्षजुत, राम जनम सुखमूल ।।11।।

बिप्र धेनु सुर संत हित, लीन्‍ह मनुज अवतार ।

निज इच्‍छा निर्मित तनु, माया गुन गो पार ।।12।।

ब्‍यापक अकल अनीह अज, निर्गुन नाम न रूप ।

भगत हेतु नाना बिध, करत चरित्र अनूप ।।13।।

गौतम नारि श्राप बस, उपल देह धरि धीर ।

चरन कमल रज चाहती, कृपा करहुँ रघुबीर ।।14।।

राम लखनु दोउ बंधुबर, रूप सील बल धाम ।

मख राखेउ सबु साखि जनु, जिते असुर संग्राम ।।15।।

लताभवन तें प्रगट भे, तेहि अवसर दोउ भाइ ।

निकसे जनु जुग बिमल बिधु, जलद पटल बिलगाइ ।।16।।

मंत्र परम लघु जासु बस, बिधि हरि हर सुर सर्ब ।

महामत्‍त गजराज कहुँ, बस कर अंकुस खर्ब ।।17।।

राम बिलोके लोग सब, चित्र लिखे से देखि ।

चितई सीय कृपायतन, जानी बिकल बिसेषि ।।18।।

तहॉं राम रघुबंस मनि , सुनिअ महा महिपाल ।

भंजेउ चाप प्रयास बिनु, जिमि गज पंकज नाल ।।19 ।।

रामु सीय सोभा अवधि, सुकृत अवधि दोउ राज ।

जहँ तहँ पुरजन कहहिं अस, मिलि नर नारि समाज ।।20।।

मुदित अवधपति सकल सुत, बधुन्‍ह समेत निहारि ।

जनु पाए महिपाल मनि, कियन्‍ह सहित फल चारि ।।21।।

सुर प्रसून बरषहिं हरषि, करहिं अपछरा गान ।

चले अवधपति अवधपुर, मुदित बजाइ निसान ।।23।।

एहि सुख ते संत कोटि गुन, पावहिं मातु अनंदु ।

भइन्‍ह सहित बिआहिं घर, आए रघुकुलचंदु ।।24।।

मंगल मोद उछाह नित, जाहिं दिवस एहि भॉंति ।

उमगी अवध अनंद भरि, अधिक अधिक अधिकाति ।।25।।

अयोध्‍याकाण्‍ड के के महत्‍वपूर्ण दोहे-

श्री गुरू चरन सरोज रज, निज मनु मुकुर सुधारि ।

बरनउँ रघुबर बिमल जसु, दो दायकु फल चारि ।।26।।

सब के उस अभिलाषु अस, कहहिं मनाइ महेसु ।

आप अछत जुबराज पद, रामहिं देउ नरेसु ।।27।।

राम राज अभिषेकु सुनि, हियँ हरषे नर पारि ।

लगे सुमंगल सजन सब, बिधि अनुकूल बिचारि ।।28।।

नामु मंथरा मंदमति, चेरि कैकइ केरि ।

अजस पेटारी ताहि करि, गई गिरा मति फेरि ।।29।।

काने खोरे कूबरे, कुटिल कुचाली जानि ।

तिय बिसेषि पुनि चेरि कहि, भरतमातु मुसुकानि ।।30।।

कवनें अवसर का भयउ, गयउॅा नारि बिस्‍वास ।

जोग सिद्धि फल समय जिमि, जतिहि अविद्या नास ।।31।।

होत प्रातु मुनिबेष धरि, जौं न रामु बन जाहिं ।

मोर मरनु राउर अजस, नृप समुझिअ मन माहिं ।।32।।

बरष चारिदस बिपिन बसि, करि पितु बचन प्रमान ।

आइ पाय पुनि देखिहउँ, मनु जनि करसि मलान ।।33।।

मातु पिता गुरू स्‍वामि सिख, सिर धरि करहिं सुभायँ ।

लहेउ लाभु तिन्‍ह जनम कर, नतरू जनमु जग जायँ ।।35।।

सपने होइ भिखारी नृप, रंकु नाकपति होइ ।

जागे लाभु न हानि कछु, तिमि प्रपंच जियँ जोइ ।।36।।

तब गनपति सिव सुमिरि, प्रभु नाइ सुरसरिहि माथ ।

सखा अनुज सिय सहित बन, गवनु कीन्‍ह रघुनाथ ।।37।।

स्‍यामल गौर किसोर बर, सुंदर सुषुमा ऐन ।

सरद सर्बरीनाथ मुखु, सरद सरोरूह नैन ।।38।।

एहि बिधि रघुकुल कमल रबि, मग लोगन्‍ह सुख देत ।

जाहिं चले देखत बिपिन, सिय सौमित्रि समेत ।।39।।

राम राम कहि राम कहि, राम राम कहि राम ।

तनु परिहरि रघुबर बिरहँ, राउ गयउ सुरधाम ।।40।।

भरतहि बिसरेउ पितु मरन, सुनत राम बन गौनु ।

हेतु अपनपउ जानि जियँ, थकित रहे धरि मौनु ।।41।।

सुनहु भरत भावी प्रबल, बिलखि कहेउ मुनिनाथ ।

हानि लाभु जीवनु मरनु, जसु अपजसु बिधि हाथ ।।42।।

अवसि चलिअ बन रामु जहँ, भरत मंत्रु भल कीन्‍ह ।

सोक सिंधु बूड़त सबहिं, तुम्‍ह अवलंबनु दीन्‍ह ।।43।।

अरथ न धरम न काम रूचि, गति न चहउँ निरबान ।

जनम जनम रति राम पद, यह बरदानु न आन ।।44।।

बरबस लिए उठाद उर, लाए कृपानिधान ।

भरत राम की मिलनि लखि, बिसरे सबहि अपान ।।45।।

सब के उर अंतर बसहु, जानहु भाउ कुभाउ ।

पुरजन जननी भरत हित, होइ सो कहिअ उपाउ ।।46।।

मुखिया मुखु सो चाहिए, खान पान कहुँ  एक ।

पालइ पोषइ सकल अँग, तुलसी सहित बिबेक ।।47।।

नित पूजत प्रभु पॉंवरी, प्रीति न हृदयँ समाति ।

मागि मागि आयसु करत, राज काज बहु भॉंति ।।48।।

अरण्‍यकाण्‍ड के के महत्‍वपूर्ण दोहे-

कलिमल समन दमन मन, राम सुजस सुखमूल ।

सादर सुनहिं जे तिन्‍ह पर, राम रहहिं अनुकूल ।।49।।

सीता अनुज समेत प्रभु, नील जलद तनु स्‍याम ।

मम हियँ बसहु निरंतर, सगुनरूप श्रीराम ।।50।।

र्इश्‍वर जीव भेद प्रभु, सकल कहौ समुझाइ ।

जातें होइ चरन रति, सोक मोह भ्रम जाइ ।।51।।

लछिमन अति लाघवँ सो, नाक कान बिनु किन्हि ।

ताके कर रावन कहँ, मनौं चुनौती दीन्हि ।।52।।

क्रोधवंत तब रावन, लीन्हिसि रथ बैठाइ ।

चला गगनपथ आतुर, भयँ रथ हॉंकि न जाइ ।।53।।

जेहि बिधि कपट कुरंग सँग, धाइ चले श्रीराम ।

सो छबि सीता राखि उर, रटति रहति हरिनाम ।।54।।

सीता हरन तात जनि, कहहु पिता सन जाह ।

लौं मैं राम त कुल सहित, कहिहि दसानन आइ ।।55।।

अबिरल भगति मागि बर, गीध गयउ हरिधाम ।

तेहि की क्रिया जथोचित, निज कर कीन्‍ही राम ।।56।।

लोभ के इच्‍छा दंभ बल, काम कें केवल नारि ।

क्रोध कें परूष बचन बल, मुनिबर कहहिं बिचारि ।।57।।

काम क्रोध लाभादि मद, प्रबल मोह कै धारि ।

तिन्‍हँ महँ अति दारून दुखद, मायारूपी नारि ।।58।।

किष्किन्‍धाकाण्‍ड के महत्‍वपूर्ण दोहे-

तब हनुमंत उभय दिसि, की सब कथ सुनाइ ।

पावक साखी देइ करि, जोरी प्रीति दृढ़ाइ ।।59।।

राम चरन दृढ़ प्रीति करि, बालि कीन्‍ह तनु त्‍याग ।

सुमन माल जिमि कंठ ते, गिरत न जानइ नाग ।।60।।

भूमि जीव संकुल रहे, गए सरद रितु पाइ ।

सदगुर मिलें जाहिं जिमि, संसय भ्रम समुदाइ ।।61।।

निज इच्‍छॉं प्रभु अवतरइ, सुर महि गो द्विज लागि ।

सगुन उपासक संग तहँ, रहहिं मोच्‍छ सब त्‍यागि ।।62।।

भव भेषज रघुनाथ जसु, सुनहिं जे नर अरु नारि ।

तिन्‍ह कर सकल मनोरथ, सिद्ध करहिं त्रिसिरारि ।।63।।

सुंदरकाण्‍ड के महत्‍वपूर्ण दोहे-

हनुमान तेहि परसा, कर पुनि कीन्‍ह प्रनाम ।

राम काजु कीन्‍हें बिना, मोहि कहॉं विश्राम ।।64।।

तात स्‍वर्ग अपबर्ग सुख, धरिअ तुला एक अंग ।

तुल न ताहि सकल मिलि, जो सुख लव सतसंग ।।65।।

रामायुध अंकित गृह, सोभा बरनि न जाह ।

नव तुलसिका बृंद तहँ, देखि हरष कपिराइ।।66।।

तब हनुमंत कही सब, राम कथा निज नाम ।

सुनत जुगल तन पुलक मन, मगन सुमिरि गुन ग्राम ।।67।।

कपि के बचन सप्रेम सुनि, उपजा मन बिस्‍वास ।

जाना मन क्रम बचन यह, कृपासिंधु कर दास ।।68।।

निसिचर निकर पतंग सम, रघुपति बान कृसानु ।

जननी हृदयँ धीर धरू, जरे निसाचर जानु ।।69।।

कपिहि बिलोकि दसानन, बिहसा कहि दुर्बाद ।

सुत बध सुरति कीन्हि पुनि, उपजा हृदयँ बिषाद ।।70।।

नाम पाहरू दिवस निसि, ध्‍यान तुम्‍हार कपाट ।

लोचन निज पद जंत्रित, जाहिं प्रान केहिं बाट ।।71।।

सचिव बैद गुर तीनि जौं, प्रिय बोलहिं भय आस ।

राज धर्म तन तीनि कर, होइ बेगिहीं नास ।।72।।

काम क्रोध मद लोभ सब, नाथ नरक के पंथ ।

सब परिहरि रघुबीरहि, भजहु भजहिं जेहि संत ।।73।।

श्रवन सुजसु सुनि आयउँ, प्रभु भंजन भव भीर ।

त्राहि त्राहि आरति हरन, सरन सुखद रघुबीर ।।74।।

काटेहिं पइ कदरी फरइ, कोटि जतन कोउ सींच ।

बिनय न मान खगेस सुनु, डाटेहिं पइ नव नीच ।।75।।

सकल सुमंगल दायकहिं,  रघुनायक गुन गान ।

सादर सुनहिं ते तरहिं भव, सिंधु बिना जलजान ।।76।।

लंकाकाण्‍ड के महत्‍वपूर्ण दोहे-

लव निमेष परमानु जुग, बरष कलप सर चंड ।

भजसि न मन तेहि राम को, कालु जासु कोदंड ।।77।।

श्री रघुबीर प्रताप ते, सिंधु तरे पाषान ।

ते मतिमंद जे राम तजि, भहिं जाइ प्रभु आन ।।78।।

बिस्‍वरूप रघुबंस मनि, करहु बचन बिस्‍वासु ।

लोक कल्‍पना बेद कर, अंग अंग प्रति जासु ।।79।।

भूमि न छॉंडत कपि चरन, देखत रिपु मद भाग ।

कोटि बिघ्‍न ते संत कर, मन जिमि नीति न त्‍याग ।।80।।

नानायुध सर चाप धर, जातुधान बल बीर ।

को‍ट कँगूरन्हि चढि़ गए, कोटि कोटि रनधीर ।।81।।

गिरिजा जासु नाम जपि, मुनि काटहिं भव पास ।

सो कि बंध तर आवइ, ब्‍यापक बिस्‍व निवास ।।82।।

दुहु दिसि जय जयकार करि, निज निज जोरि जानि ।

भिरे बीर इत रामहिं, उत रावनहि बखानि ।।83।।

तानेउ चाप श्रवन लगि, छॉंड़े बिसिख कराल ।

राम मारगन गन चले, लहलहात जनु ब्‍याल ।।84।।

खैंचि सरासन श्रवन लगि, छाड़े सर एकतीस ।

रघुनायक सायक चले, मानहुँ काल फनीस ।।85।।

अनुज जानकी सहित प्रभु, कुसल कोसलाधीस ।

सोभा देखि हरषि मन, अस्‍तुति कर सुर ईस ।।86 ।।

समर बिजस रघुबीर के, चरित जे सुनहिं सुजान ।

बिजय बिबेक बिभूति नित, तिन्‍हहि देहिं भगवान ।।87।।

उत्‍तरकाण्‍ड के महत्‍वपूर्ण दोहे-

रहा एक दिन अवधि कर, अति आतुर पुर लोग ।

जहँ तहँ सोचहिं नारि नर, कृस तन राम बियोग ।।88।।

आवत देखि लोग सब, कृपासिंधु भगवान ।

नगर निकट प्रभु प्रेरेउ, उतरेउ भूमि बिमान ।।89।।

वह सोभा समाज सुख, कहत न बनइ खगेस ।

बरनहिं सारद सेष श्रुति, सो रस जान महेस ।।90।।

बार बार बर मागउँ, हरषि देहु श्रीरंग ।

पद सरोज अनपायनी, भगति सदा सतसंग ।।91।।

निज उर माल बसन मनि, बालितनय पहिराइ ।

बिदा कीन्हि भगवान तब, बहु प्रकार समुझाइ ।।92।।

राम राज नभगेस सुनु, सचाराचर जग माहिं ।

काल कर्म सुभाव गुन, कृत दुख काहुहि नाहिं ।।93।।

बिधु महि पूर मयूखन्हि, रबि तप जेतनेहि काज ।

मागे बारिद देहि जल, रामचंद्र के राज ।।94।।

ग्‍यान गिरा गोतीत अज, माया मन गुन पार ।

सोइ सच्चिदानंद घन, कर नर चरित उदार ।।95।।

पर द्रोही पर दार रत, पर धन पर अपबाद ।

ते नर पॉंवर पापमय, देह धरें मनुजाद ।।96।।

औरउ एक गुपुत मत, सबहि कहउँ कर जोरि ।

संकर भजन बिना नर, भगति न पावइ मोरि ।।97।।

नाथ एक बर मागऊँ, राम कृपा करि देहु ।

जन्‍म जन्‍म प्रभु पद कमल, कबहुँ घटै जनि नेहु ।।98।।

बिरति ग्‍यान बिग्‍यान दृढ़, राम चरन अति नेह ।

बायस तन रघुपति भगति, मोहि परम संदेह ।।99।।

बिनु सतसंग न हरि कथा, तेहि बिनु मोह न भाग ।

मोह गऍं बिनु राम पद, होइ न दृढ़ अनुराग ।।100।।

श्रोता सुमति सुसील सुचि, कथा रसिक हरि दास ।

पाइ उमा अति गोप्‍यमति, सज्‍जन करहिं प्रकास ।।101।।

ब्‍यापि रहेउ संसार महुँ, माया कटक प्रचंड ।

सेनापति कामादि भट, दंभ कपट पाषंड ।।102।।

रामचंद्र के भजन बिनु, जो चहपद निर्बान ।

ग्‍यानवंत अपि सो नर, पसु बिनु पूँछ बिषान ।।103।।

बिनु बिस्‍वास भगति नहिं, तेहि बिनुद्रवहिं न रामु ।

राम कृपा बिनु सपनेहुँ, जीव न लह बिश्रामु ।।104।।

कलिजुग सम जुग आन नहिं, जौं नर कर बिस्‍वास ।

गाइ राम गुन गन बिमल, भव तर बिनहिं प्रयास ।।105।।

कहत कठिन समुझत कठिन, साधत कठिन बिबेक ।

होइ घुनाच्‍छर न्‍याय जौं, पुनि प्रत्‍यूह अनेक ।।106।।

बारि मथे घृत होइ बरू, सिकता ते बरू तेल ।

बिनु हरि भजन न भव तरिअ, यह सिद्धांत अपेल ।।107।।

मो सम दीन न दीन हित, तुम्‍ह समान रघुबीर ।

अस बिचारी रघुबंस मनि, हरहु बिषम भव भीर ।।108।।

Categories
गीत-लोकगीत छंद साहित्‍य रत्‍न

आई होली आई होली

आई होली आई होली 

(सार छंद गीत)

आई होली आई होली
आई होली आई होली
आई होली आई होली, मस्ती भर कर लाई । 
झूम झूम कर बच्चे सारे, करते हैं अगुवाई ।

बच्चे देखे दीदी भैया, कैसे रंग उड़ाये ।
रंग अबीर लिये हाथों में, मुख पर मलते जाये ।
देख देख कर नाच रहे हैं, बजा बजा कर ताली ।
रंगो इनको जमकर भैया, मुखड़ा रहे न खाली ।
इक दूजे को रंग रहें हैं, दिखा दिखा चतुराई ।
आई होली आई होली…….

गली गली में बच्चे सारे, ऊधम खूब मचाये ।
हाथों में पिचकारी लेकर, किलकारी बरसाये ।।
आज बुरा ना मानों कहकर, होली होली गाते ।
जो भी आते उनके आगे, रंगों से नहलाते ।।
रंग रंग के रंग गगन पर, देखो कैसे छाई ।
आई होली आई होली…….
कान्हा के पिचका से रंगे, दादाजी की धोती ।

दादी भी तो बच ना पाई, रंग मले जब पोती ।
रंग गई दादी की साड़ी, दादाजी जब खेले ।
दादी जी खिलखिला रही अब, सारे छोड़ झमेले ।
दादा दादी नाच रहे हैं, लेकर फिर तरूणाई ।
आई होली आई होली…….

-रमेश चौहान

Categories
छंद साहित्‍य रत्‍न

आदि शङ्कराचार्य रचित चर्पटपञ्जरिका स्तोत्र का छंदबद्ध काव्‍यानुवाद

आदि शंकराचार्य रचित चर्पट पंचारिका स्‍त्रोत

आदि शंकराचार्य रचित चर्पट पंचारिका स्‍त्रोत ‘भज गोविन्‍द भज गोविन्‍द मूढ़ मते’ एक सुप्रसिद्ध कृति है, जो मूल रूप में देवभाषा संस्‍कृत में है । इस स्‍त्रोत में आदि शंकराचार्य ने मानव जीवन को नश्‍वर बतलाते हुुुये ईश्‍वर शरण मेें जाने की प्ररेणा दियेे हैं । इसी स्‍त्रोत का लावणी छंंद में भावपूर्ण अनुवाद किया गया है ।

चर्पट पंजारिका (हिन्‍दी में)-

आदि शङ्कराचार्यरचित चर्पटपञ्जरिका स्तोत्र का छंदबद्ध काव्‍यानुवाद

चर्पट-लावणी

(चर्पट पंजारिका लावणी छंद में)

ध्रुव पद- 
हरि का सुमरन कर ले बंदे,  नश्‍वर है दुनियादारी ।
छोड़ रहें हैं आज जगत वह,  कल  निश्चित तेरी बारी ।।

दिवस निशा का क्रम है शाश्‍वत, ऋतुऐं भी आते जाते ।
समय खेलता खेल मनोहर, खेल समझ ना तुम  पाते।।
आयु तुम्‍हारी घटती जाती, खबर तनिक ना  तुम पाये ।
हरि सुमरन छोड़ जगत से, तुम नाहक मोह बढ़ाये ।।1।।

वृद्ध देह की हालत सोचो, जाड़ा से कैसे  बचते ।
कभी पीठ पर सूर्य चाहिये, कभी अनल ढेरी रचते ।।
घुटनों के बीच कभी सिर रख, मुश्किल से प्राण बचाते ।
दीन दशा में देह पड़ा है, फिर भी  मन आस जगाते ।।2।।

तरूण हुये थे जब से तुम तो, जग में धन-धान्‍य बनाये ।
पूछ-परख तब परिजन करते, भांति-भांति तुम्‍हें रिझाये ।।
हुआ देह अब जर्जर देखो,  कुशल क्षेम भी ना वे पूछे ।
इधर-उधर अब भटकता बूढ़ा, जीवन जीने को ही जूझे ।।3।।

कोई-कोई जटा बढ़ाये,  कोई सिर केश मुढ़ाये ।
गेरूवा बाना कोई साजे, कोई अँग  भस्‍म रंगाये ।।
फिर भी दुनिया छोड़ न पाये,  मन जीवन आस जगाये ।।
सत्‍व तत्‍व खुद समझ न पाये, दुनिया को वह भरमाये ।।4।।

भगवत गीता जो लोग पढ़े, जो गंगाजल पान किये ।
कृष्‍ण मुरारी कृष्‍ण मुरारी, कृष्‍ण भजन का गान किये ।।
उनके अंंतिम  बेला पर तो, कष्‍ट हरण यमराज किये ।
अंतकाल में देखा जाता, जीवन में क्‍या काज किये ।।5।।

अंग शिथिल हो कॉंप रहा है,  श्‍वेत केश झॉंक रहा है ।
दंत विहिन मुख कपोल पिचका, रोटी भी फॉंक रहा है ।
लाठी हाथों में डोल रहा , जीवन रहस्‍य खोल रहा ।
इतने पर भी  हाय बुढ़ापा, मोह जगत से बोल रहा  ।।6।।

बचपन को तुम खेल बिताये, मित्र किशोरापन खाये ।
देह आर्कषण के फेर परे, तरूणाई तरूण गँवाये ।।
फिर जाकर परिवार बसाये,  धन दौलत प्रचुर बनाये ।
पाले नाहक चिंता अब तो, बैठ बुढ़ा हरि बिसराये ।।7।।

जन्‍म मरण का  आर्वत फिर फिर, जन्‍म लिये फिर मृत्‍यु गहे ।
अचल नहीं यह मृत्यु हमारी, मृत्‍यु बाद फिर जन्‍म पहे ।।
फिर फिर जग में पैदा होना, फिर फिर जग से है मरना ।
टूटे अब यह दुस्‍तर आर्वत, देव, कृपा ऐसी करना ।।8।।

फिर-फिर आती रहती रजनी, दिन भी तो फिर-फिर आते ।
पखवाड़ा भी फिरते रहते, अयन वर्ष भी फिर जाते ।।
मानव मन की अभिलाषा है, जो मुड़कर कभी न देखे ।
देह जरा होवे तो होवे, पागल मन इसे न लेखे ।।9।।

धन बिन क्‍या नाते-रिश्‍ते, जल विहिन जलाशय जैसे ।
देह आयु जब साथ न होवे, काम-इच्‍छा से प्रित कैसे ।।
अरे बुढ़ापा कुछ चिंतन कर, क्‍या है अब पास तुम्‍हारे ।
हरि सुमरन विसार कर तुम, क्‍यों माया जगत निहारे ।।10।।

 रूपसी का रूप निहारे क्‍यों,  अहलादित होता मन है ।
वक्ष-नाभि में दृष्टि तुम्‍हारी, मांस-वसा का ही तन है ।।
तन आकर्षण मिथ्‍या माया, विचलित तुमको करते हैं ।
अरे बुढ़ापा अंतकाल में, यह माया क्‍यो पलते हैं ।।11।।

सारहीन यह स्‍वप्‍न लोक है, जगत मोह को तुम त्‍यागो ।
गहरी निद्रा पड़े हुये हो, ऑख खोल कर अब जागो ।।
मैं कौन कहॉं से आया हूँ,  मातु-पिता कौन हमारो ।
आत्‍म तत्‍व पर चिंतन करते, अब अपने आप विचारो।।12।।

भगवत गीता पढ़ा करो कुछ, बिष्‍णु नाम जपा करो कुछ ।
ईश्‍वर स्‍वरूप का ध्‍यान धरो,  पुण्‍य कर्म किया करो कुछ ।
संतो की संगति किया करो, दान-धर्म किया करो कुछ ।
दीन-हीन की मदद करो कुछ, इसके आगे बाकी तुछ ।।13।।

प्राण देह में  होता जबतक, पूछ-परख है रे तेरा ।
प्राण विहिन काया को फिर, कहे न कोई रे मेरा ।
दूजे की तो बातें छोड़ों, अंतरंग जीवन साथी ।
भूत मान कर डरती रहती, यही जगत की परिपाटी ।।14।।

शारीरिक सुख के पीछे ही, भागता फिरता जवानी ।
स्‍त्री मोह मेंं है दीवाना,  पुरूष मोह में दीवानी ।।
देह वही अब जर्जर रोगी, अंत मृत्‍यु को ही पाये ।
देख-भालकर  भी दुनिया को, ईश्‍वर शरण न वह जाये ।।15।।

डगर पड़े चिथड़े की झोली,  लेकर फिरता सन्‍यासी ।
पाप-पुण्‍य रहित डगर पर वह, कर्म विहिन रहे उदासी ।।
समझ लिया  जो इस दुनिया में, न मैं हूँ न तू  न ही जगत ।
फिर भी क्‍यों वह शोकग्रस्‍त हो, डरता फिरता एक फकत ।।16।।

चाहे गंगासागर जावे, चाहे व्रत उपवास करे ।
चाहे सारे तीरथ घूमे,चाहे कुछ बकवास करे ।।
ज्ञानविहिन मुक्ति न संभव, आत्‍म तत्‍व को तो जाने ।
कर्म भोग जीवन का गहना, ज्ञान कर्म  में तानो ।।17।।

-रमेश चौहान

Categories
छंद साहित्‍य रत्‍न

राजनीति पर कुछ कुण्‍डलियां

राजनीति पर कुछ कुण्‍डलियां
राजनीति पर कुछ कुण्‍डलियां

1.

कोयल कौआ एक सा, नहीं रंग में भेद ।
राजनीति का रंग भी, कालिख श्‍याम अभेद ।।
कालिख श्‍याम अभेद, स्‍वार्थ है अपना अपना ।
कोई नहीं तटस्‍थ, सभी कोई है ढपना ।।
फेकू पप्‍पू रंग, भक्‍त चम्‍मच ठकठौआ ।
करे कौन पहचान, श्‍याम है कोयल कौआ ।।

2.

नेता स्वार्थ साधने, बदल रहे संविधान ।
करने दो जो चाहते, डालो मत व्यवधान ।।
डालो मत व्यवधान, है अभी उनकी बारी ।
लक्ष्य पर रखो ध्यान, करो अपनी तैयारी ।।
बगुला जोहे बाट, बैठे नदी तट रेता ।
शिकारी बन बैठो, शिकार हो भ्रष्ट नेता ।

3.

मतदाता को मान कर, पत्थर सा भगवान ।
नेता नेता भक्त बन, चढ़ा रहे पकवान ।।
चढ़ा रहे पकवान, एक दूजे से बढ़कर ।
रखे मनौती लाख, घोषणा चिठ्ठी गढ़कर ।।
बिना काम का दाम, मुफ्तखोरी कहलाता ।
सुन लो कहे ‘रमेश‘, काम मांगे मतदाता ।।

4.

देना है तो दीजिये, हर हाथों को काम ।
नही चाहिये भीख में, कौड़ी का भी दाम ।।
कौड़ी का भी दाम, नहीं मिल पाते हमको ।
अजगर बनकर तंत्र, निगल जाते हैं सबको ।।
सुन लो कहे ‘रमेश‘, दिये क्यों हमें चबेना ।
हमें चाहिये काम, दीजिये जो हो देना ।।

5.

बैरी बाहर है नहीं, घर अंदर है चोर ।
मानवता के नाम पर, राष्ट्र द्रोह ना थोर ।।
राष्ट्र द्रोह ना थोर, शत्रु को पनाह देना ।
गढ़कर पत्थरबाज, साथ उनके हो लेना ।।
राजनीति का स्वार्थ, कहां है अब अनगैरी ।
माटी का अपमान, मौन हो देखे बैरी ।।

6.

साचा साचा बात है, नहीं साच को आच ।
राजनीति के आच से, लोग रहे हैं नाच ।।
लोग रहे हैं नाच, थाम कर कोई झंडा ।
करते उनकी बात, जुबा पर लेकर डंडा ।।
साचा कहे रमेश, नहीं कोई अपवाचा ।
यही सही उपचार, राजनेता हो साचा ।।

(शब्‍दार्थ -ढपना-ढक्‍कन, ठकठौआ- करताल बजाकर भीख मांगने वाला)

-रमेेेेश चौहान

Categories
छंद साहित्‍य रत्‍न

अनुष्‍टुप छंद विधान और उदाहरण

अनुष्‍टुप छंद-

अनुष्‍टुप छंद विधान और उदाहरण
अनुष्‍टुप छंद विधान और उदाहरण

अनुष्‍टुप छंद एक वैदिक वार्णिक छंद है । इस छंद को संस्‍स्‍कृत में प्राय: श्‍लोक कहा जाता है या यों कहिये श्‍लोक ही अनुष्‍टुप छंद है । संस्‍कृत साहित्‍य में सबसे ज्‍यादा जिस छंद का प्रयोग हुआ है, वह अनुष्‍टुप छंद ही है ।

अनुष्‍टुप छंद का विधान-

अनुष्‍टुप छंद 4 चरणों एवं दो पदों का वार्णिक छंद हैं जिसके प्रत्‍येक चरणों में 8-8 वर्ण होते हैं । इन आठ वर्णो में गुरू-लघु का नियम होता है । संस्‍कृत में तुक की अनिवार्यता नहीं थी, हिन्‍दी में तुक का ज्‍यादा प्रचलन है इसलिये इस छंद में तुकांत को ऐच्छिक रखा गया चाहे रचनाकार तुकांत रखे चाहे तो न रखें । इसके नियम को निम्‍नवत रेखांकित किया जा सकता है-

  • विषम चरण – वर्ण क्रमांक पाँचवाँ, छठा, सातवाँ, आठवाँ क्रमशः लघु, गुरू, गुरू, गुरू
  • सम चरण – वर्ण क्रमांक पाँचवाँ, छठा, सातवाँ, आठवाँ क्रमशः लघु, गुरू, लघु, गुरू
  • तुकांतता-ऐच्छिक

अनुष्‍टुप छंद की परिभाषा अनुष्‍टुप छंद में-

आठ वर्ण जहां आवे, अनुष्टुपहि छंद है ।
 पंचम लघु  राखो जी, चारो चरण बंद में ।।

 छठवाँ गुरु आवे है, चारों चरण बंद में ।
 निश्चित लघु ही आवे, सम चरण सातवाँ ।।

 अनुष्टुप इसे जानों, इसका नाम श्लोक भी ।
 शास्त्रीय छंद ये होते, वेद पुराण ग्रंथ में ।।

 -रमेश चौहान

अनुष्‍टुप छंद का उदाहरण-

राष्ट्रधर्म कहावे क्या, पहले आप जानिये ।
 मेरा देश धरा मेरी, मन से आप मानिये ।।

 मेरा मान लिये जो तो,  देश ही परिवार है ।
 अपनेपन से होवे, सहज प्रेम देश से ।।

 सारा जीवन है बंधा, केवल अपनत्व से ।
 अपनापन सीखाये, स्व पर बलिदान भी ।।

 सहज परिभाषा है, सुबोध राष्ट्रधर्म का ।
 हो स्वभाविक ही पैदा, अपनापन देश से ।।

 अपनेपन में यारों, अपनापन ही झरे ।
 अपनापन ही प्यारा, प्यारा सब ही लगे ।।

 अपना दोष औरों को, दिखाता कौन है भला ।
 अपनी कमजोरी को,  रखते हैं छुपा रखे ।।

 अपने घर में यारों,  गैरों का कुछ काम क्या ।
 आवाज शत्रु का जो हो, अपना कौन मानता ।।

 होकर घर का भेदी, अपना बनता कहीं ।
 राष्ट्रद्रोही वही बैरी, शत्रु से  मित्र भी  बड़ा ।।

-रमेश चौहान
Categories
छंद साहित्‍य रत्‍न

सरसी छंद विधान और प्रयोग

सरसी छंद का परिचय

सरसी छंद विधान और प्रयोग
सरसी छंद विधान और प्रयोग

सरसी छंद एक बहुत ही लोकप्रिय छंद है। जहां भोजपुरी भाषाई क्षेत्र में सरसी छंद में होली गीत गाए जाते हैं वहीं छत्तीसगढ़ के राउत समुदाय द्वारा इसे एक लोक नृत्य लोकगीत के रूप में राउत दोहा के रूप में प्रयोग किया जाता है । इस प्रकार यह सरसी छंद लोक छंद के रूप में भी प्रचलित है ।

सरसी छंद का विधान

सरसी छंद चार चरणों का एक विषम मात्रिक छंद होता है । सरसी छंद में चार चरण और 2 पद होते हैं । इसके विषम चरणों में 16-16 मात्राएं और सम चरणों में 11-11 मात्राएं होती हैं । इस प्रकार सरसी छंद में 27 मात्राओं की 2 पद होते हैं । सरसी छंद का विषम चरण ठीक चौपाई जैसे 16 मात्रा की होती है और यह पूर्णरूपेण चौपाई के नियमों के अनुरूप होती है ।वहीं इसका सम चरण दोहा के सम चरण के अनुरूप होती है, दोहा के समय चरण जैसे ठीक 11 मात्रा और अंत में गुरु लघु ।

सरसी छंद की परिभाषा सरसी छंद में

चार चरण दो पद में होते, सोलह-ग्यारह भार ।
लोकछंद सरसी है प्रचलित, जन-मन का उपहार ।।

विषम चरण हो चौपाई जैसे, सम हो दोहा बंद ।
सोलह-ग्यारह मात्रा भार में, होते सरसी छंद ।।

होली गीत कहीं पर गाते, गाकर सरसी छंद ।
राउत दोहा नाम कहीं पर, लोक नृत्य का कंद ।।

सरसी छंद में होली गीत

चुनावी होली
(सरसी छंद)

जोगीरा सरा ररर रा
वाह खिलाड़ी वाह.

खेल वोट का अजब निराला, दिखाये कई रंग ।
ताली दे-दे जनता हँसती, खेल देख बेढंग ।।
जोगी रा सरा ररर रा, ओजोगी रा सरा ररर रा

जिनके माथे हैं घोटाले, कहते रहते चोर ।
सत्ता हाथ से जाती जब-जब, पीड़ा दे घनघोर ।।
जोगी रा सरा ररर रा ओ जोगी रा सरा ररर रा

अंधभक्त जो युगों-युगों से, जाने इक परिवार ।
अंधभक्त का ताना देते, उनके अजब विचार ।।
जोगीरा सरा ररर रा ओ जोगी रा सरा ररर रा

बरसाती मेढक दिखते जैसे, दिखती है वह नार ।
आज चुनावी गोता खाने, चले गंग मजधार ।।
जोगीरा सरा ररर रा ओ जोगी रा सरा ररर रा

मंदिर मस्जिद माथा टेके, दिखे छद्म निरपेक्ष।
दादा को बिसरे बैठे,  नाना के सापेक्ष ।।
जोगीरा सरा ररर रा ओ जोगी रा सरा ररर रा

दूध पड़े जो मक्खी जैसे, फेक रखे खुद बाप ।
साथ बुआ के निकल पड़े हैं, करने सत्ता जाप ।।
जोगीरा सरा ररर रा ओ जोगी रा सरा ररर रा


इक में माँ इक में मौसी, दिखती ममता प्यार ।
कोई कुत्ता यहाँ न भौके, कहती वह ललकार ।।
जोगीरा सरा ररर रा ओ जोगी रा सरा ररर रा

मफलर वाले बाबा अब तो, दिखा रहे हैं प्यार ।
जिससे लड़ कर सत्ता पाये, अब उस पर बेजार ।।
जोगीरा सरा ररर रा ओ जोगी रा सरा ररर रा

पाक राग में राग मिलाये, खड़ा किये जो प्रश्न ।
एक खाट पर मिलकर बैठे, मना रहे हैं जश्न ।।
जोगीरा सरा ररर रा ओ जोगी रा सरा ररर रा


नाम चायवाला था जिनका, है अब चौकीदार ।
उनके सर निज धनुष चढ़ाये, उस पर करने वार ।।
जोगीरा सरा ररर रा ओ जोगी रा सरा ररर रा

सरसी छंद में राउत दोहा

हो--------रे----
गौरी के तो गणराज भये(हे य)
(अरे्रे्रे) अंजनी के हनुमान (हो, हे… य)
कालिका के तो भैरव भये (हे… )
हो…….ये
कोशिल्या के राम हो  (हे… य)


आरा्रा्रा्रा्रा्रा्रा
दारु मंद के नशा लगे ले (हे… य)
मनखे मर मर जाय  (हे… य)
जइसे सुख्खा रुखवा डारा, 
लुकी पाय बर जाय (हे… य)


हो्ये ...ह….
बात बात मा झगड़ा बाढ़य (हे… य)
(अरे् )पानी मा बाढ़े धान  (हे… य)
तेल फूल मा लइका बाढ़े, 
खिनवा मा बाढ़े कान (हे… य)


हो…….ओ..ओ
नान-नान तैं देखत संगी (हे… य)
झन कह ओला छोट (हे… य)
मिरचा दिखथे भले नानकुन, 
देथे अब्बड़ चोट ।।(रे अररारारा)


आरा्..रा्रा्रा्रा्रा्रा
लालच अइसन हे बड़े बला (हे… य)
जेन परे पछताय रे (हे… य)
फसके मछरी हा फांदा मा, 
जाने अपन गवाय रे (अररारारा)

सरसी छंद के कुछ उदाहरण

कानूनी अधिकार नहीं

है बच्चों का लालन-पालन, कानूनी कर्तव्य ।
पर कानूनी अधिकार नही, देना निज मंतव्य ।।

पाल-पोष कर मैं बड़ा करूं, हूँ बच्चों का बाप ।
मेरे मन का वह कुछ न करे, है कानूनी श्राप ।।

जन्म पूर्व ही बच्चों का मैं, देखा था जो स्वप्न ।
नैतिकता पर कानून बड़ा, रखा इसे अस्वप्न ।।

दशरथ के संकेत समझ तब, राम गये वनवास ।
अगर आज दशरथ होते जग, रहते कारावास ।।

नया दौर नया जमाना

नया जमाना नया दौर है, जिसका मूल विज्ञान।
परंपरा को तौल रहा है, नया दौर का ज्ञान ।

यंत्र-तंत्र में जीवन सिमटा, जिसका नाम विकास ।
सोशल मीडिया से जुड़ा अब, जीवन का विश्वास ।

एक अकेले होकर भी अब, रहते जग के साथ ।
शब्दों से अब शब्द मिले हैं, मिले न चाहे हाथ ।

पर्व दिवस हो चाहे कुछ भी, सोशल से ही काम ।
सुख-दुख का सच्चा साथी, यंत्र नयनाभिराम ।

मोबाइल हाथों का गहना, टेबलेट से प्यार ।
कंप्यूटर अरु लैपटॉप ही, अब घर का श्रृंगार ।

राष्ट्र धर्म ही धर्म बड़ा है

राष्ट्र धर्म ही धर्म बड़ा है, राष्ट्रप्रेम ही प्रेम ।
राष्ट्र हेतु ही चिंतन करना, हो जनता का नेम ।

राष्ट्र हेतु केवल मरना ही, नहीं है देश भक्ति ।
राष्ट्रहित जीवन जीने को, चाहिए बड़ी शक्ति ।

कर्तव्यों से बड़ा नहीं है, अधिकारों की बात ।
कर्तव्यों में सना हुआ है, मानवीय सौगात ।

अधिकारों का अतिक्रमण भी, कर जाता अधिकार ।
पर कर्तव्य तो बांट रहा है , सहिष्णुता का प्यार ।

राष्ट्रवाद पर एतराज क्यों, और क्यों राजनीति ।
राष्ट्रवाद ही राष्ट्र धर्म है, लोकतंत्र की नीति ।।

राष्ट्रवाद ही एक कसौटी, होवे जब इस देश ।
नहीं रहेंगे भ्रष्टाचारी, मिट जाएंगे क्लेश ।।
-रमेश चौहान
Categories
आलेख रत्‍न धर्म-कर्म-अध्‍यात्‍म

संत तिरूवल्‍लुवर के अमृत वचन

अमृत वचन

संत तिरूवल्‍लुवर के अमृत वचन
संत तिरूवल्‍लुवर के अमृत वचन

1.नम्रता और स्‍नेहार्द्र वक्‍तृता केवल यही मनुष्‍य के आभूषण हैं और कोई नहीं ।

2. अधर्म द्वारा एकत्र की हुई सम्‍पत्‍ती की अपेक्षा तो सदाचारी पुरूष की दरिद्रता कहीं अच्‍छी है ।

3. जिन कर्मो में असफलता अवश्‍यसंभावी है, उसे संभव कर दिखाना और विध्‍न-बाधाओं से न डर कर अपने कर्तव्‍य पर डटे रहना प्रतिभा शक्ति के लिये दो प्रमुख सिद्धांत हैं ।

4. लोगों को रूलाकर जो सम्‍मपत्‍ती इकट्ठी की जाती है, वह क्रन्‍दन ध्‍वनि के साथ ही विदा हो जाती है, मगर जो धर्म द्वारा संचित की जाती है, वह बीच में ही क्षीण हो जाने पर भी अंत में खूब फलती-फूलती है ।

5. यदि तुम्‍हारे विचार शुद्ध और पवित्र है और तुम्‍हारी वाणी में सहृदयता है, तो तुम्‍हारी पाप वृत्ति का स्‍वयमेव क्षय हो जायेंगे ।

6. सत्‍पुरूषों की वाणी ही वास्‍तव में सुस्निग्‍ध होती है । क्‍योंकि दयार्द्र कोमल और बनावट से रहित होती है ।

7. लक्ष्‍मी ईर्ष्‍या करने वालों के पास नहीं रह सकती । वह उसको अपनी बड़ी बहन दरिद्रता के हवाले कर देती है ।

8. मीठे शब्‍दों के रहते हुए भी जो मनुष्‍य कड़वे शब्‍द का प्रयोग करता है, वह मानों पक्‍के फल को छोडकर कच्‍चा फल खाना चाहता है ।

Categories
छंद साहित्‍य रत्‍न

चौहान के दोहे

चौहान के दोहे
चौहान के दोहे

सफलता के दोहे

1.  मन से काम 'रमेश' कर, कहते है हर कोय ।
मन से गिरि रज होत हैं, सागर कूप स होय ।।

2.  कर्म भाग्‍य का मूल है, कर्म आपके हाथ ।
अपना कर्म 'रमेश' कर, मिले भाग्‍य का साथ ।।

3.  गिर-गिर कर चलना सिखे,  अटक-अटक कर बोल ।
डरना छोड़ 'रमेश' अब,, कोशिश कर दिल खोल ।।

4.  खुले नयन के स्‍वप्‍न को, स्वप्न सलौने मान ।
कर साकार 'रमेश' अब,, मन में पक्का ठान ।।

5.  सीख छुपा है भूल में, कर लो भूल सुधार ।
किए न यत्‍न 'रमेश' यदि, यही तुम्हारी हार ।।

6.  स्वाद 'रमेशा' भूख में, नहीं स्वाद में भूख ।
 भूख जीत की हो अगर, सुनें जीत की कूक ।।

7.  अगर सफल होना तुम्‍हें, लक्ष्‍य डगर संधान ।
 मन के हर भटकाव को, रोक रखो 'चौहान' ।।

8.  अपनी रेखा दीर्घ कर, होगी उसकी छोट ।
 अपना काम 'रमेश' कर, मन में ना रख खोट ।।

9.  कोशिश करो 'रमेश' तुम, कोशिश से ना हार ।
 कोशिश-कोशिश से तुम्‍हें, जीत करेगी प्‍यार ।।

10.  होना सफल 'रमेश' यदि, बुनों योजना एक ।
मान योजना को राह तुम, चले चलों बिन ब्रेक ।।

जवानी के दोहे-

11.  अरे 'रमेशा' युवक तुम, समझ युवक का अर्थ ।
जीवन की बुनियाद तुम, रित ना जावो व्‍यर्थ ।।

12.  अगर 'रमेशा' तुम युवा, रखो जोश में होश ।
देह प्रेम के फेर में, रहो न तुम बेहोश ।।

13.  काम काम के भेद को, ध्‍यान करो 'चाैहान' ।
 काम वासना ही नहीं, काम कर्म की खान ।।

14.  अगर 'रमेशा' पेड़ तुम, बचपन कली बलिष्‍ट ।
जवा-जवानी पुष्‍प है, मधु फल जरा विशिष्‍ट ।।

15.  जीवन पथ यदि वृक्ष हो, आयु युवा है फूल ।
 फूल वृक्ष से टूट कर, बन जाते हैं धूल ।। 

-रमेश चौहान

Categories
आलेख रत्‍न धर्म-कर्म-अध्‍यात्‍म

‘हानि कुसंग सुसंगति लाहू’ – गोस्‍वामी तुलसीदास

रामचरित मानस –

गोस्‍वामी तुलसीदास रचित रामचरित मानस को ‘छहो शास्‍त्र सब ग्रंथन का रस’ कहा गया है अर्थात रामचरित मानस एक ऐसा ग्रंथ है जिसमें सभी वेदों, पुराणों, एवं शास्त्रों का निचोड़ है । जीवन के हर मोड़ के लिये यह एक पदथप्रदर्शक के रूप में हमें दिशा देती है । इसी रामचरित मानस के प्रथम सोपान बालकाण्‍ड के दोहा संख्‍या 6 से दोहा संख्‍या 7 साधु असाधु में भेद और कुसंग और सुसंग का व्‍यापक व्‍याख्‍या है । आज संगति पर विचार समिचिन लग रहा है ।

'हानि कुसंग सुसंगति लाहू' - गोस्‍वामी तुलसीदास
‘हानि कुसंग सुसंगति लाहू’ – गोस्‍वामी तुलसीदास

जड़ चेतन गुन दोष मय-

रामचरित मानस के प्रथम सोपान बालकाण्‍ड़ के दोहा संख्‍या 6 में गोस्‍वामी तुलसीदासजी लिखते हैं-

जड़ चेतन गुन दोष मय, बिश्‍व कीन्‍ह करतार ।
संत हंस गुन गहहिं पय, परिहरि बारि बिकार ।।6।।

अर्थ-

करतार अर्थात ब्रम्‍हा ने विश्‍व को गुण और दोष  युक्‍त जड़ और चेतन की रचना की है । जो लोग संत होते हैं, वे हंस जैसे केवल दूध रूपी गुण को ग्रहण करते हैं और पानी रूपी बिकार अर्थात दोष को छोड़ देते हैं ।

गुणार्थ-

 ‘बिधि प्रपंच गुन अवगुन साना’ विधाता ने माया में गुण और अवगुण मिला दिया है । अब इस गुण और अवगुण के मिश्रण गुण को पृथ्‍क करने का सामर्थ्‍य तो केवल संत में है । संत ही हैं जो आम जन को इस माया से गुण को अलग करके देता है । 

यहॉं संत को परिभाषित किया गया है कि संत वहीं हैं जो गुण अवगुण युक्‍त माया से केवल गुण को पृथ्‍क करने का सामर्थ्‍य रखता है ।

अस बिबेक जब देइ बिधाता-

अस बिबेक जब देइ बिधाता । तब तजि दोष गुनहिं मनु राता

अर्थ-

ऐसा विवेक, ऐसी बुद्धि जब विधाता दें, तभी दोष छोड़ कर मन गुण में रत रह सकता है ।

गुणार्थ-

ऐसा विवेक अर्थात हंस जैसा विवेक गुण और अवगुण को अलग करने की सामर्थ्‍ययुक्‍त बुद्धि एक तो विधाता दे सकते हैं दूसरा सत्‍संग से प्राप्‍त किया जा सकता है । यदि आप स्‍वयं हंस नहीं है तो दूध और पानी को अलग नहीं कर सकते किन्‍तु आप यदि इनका बिलगाव चाहते हैं तो हंस का सहयोग लेना ही होगा । ठीक इसी प्रकार यदि हम माया से गुण दोष को अलग नहीं कर सकते तो हंस रूप संत का संतसंग करके गुण दोष को पृथ्‍क कर सकते हैं ।

काल सुभाउ करम बरिआई-

काल सुभाउ करम बरिआई । भलेउ प्रकृति बस चुकइ भलाई

अर्थ-

काल अर्थात समय के स्‍वभाव से और कर्म की प्रबलता से प्रकृति अर्थात माया के वशीभूत होकर भले लोग भी भलाई करने से चुक जाते हैं ।

गुणार्थ-

‘काल, करम गुन सुभाउ सबके सीस तपत’ सभी प्राणियों शिश पर पर काल और कर्म का प्रभाव उपद्रव करते फिरता है इस प्रभाव से एक आवरण पड़ जाता है जिससे भले लोग भी भलाई करने से चूक जाते हैं अर्थात गुण और अवगुण में भेद नहीं कर सकते । इसका सरल उपाय गोस्‍वामीजी स्‍वयं देते हैं- ‘काल धर्म नहिं व्‍यापहिं ताहीं । रघुपति चरन प्रीति अति जाहीं” काल और कर्म के प्रभाव से जो आवरण बन जाता है उस आवरण को केवल और केवल रघुपति के चरण पर प्रीति रखने से नष्‍ट किया जा सकता है ।

सो सुधारि हरिजन जिमि लेहीं-

सो सुधारि हरिजन जिमि लेहीं । दलि दुख दोष बिमल जसु देहीं

अर्थ-

काल और कर्म के प्रभाव जो भलाई करने से चूक जाते हैं, इस चूक को हरिजन अर्थात ईश्‍वर भक्‍त सुधार लेते हैं । अपने चूक को सुधारते हुये ऐसे लोग दुख और दोष का दमन करके विमल यश को देते हैं ।

गुणार्थ-

ल सुधार की शक्ति केवल हरिभक्‍त के पास है । गोस्‍वामीजी कहते हैं-‘नट कृत कपट बिकट खगराया । नट सेवकहिं न ब्‍यापहिं माया’ अर्थात इस सृष्टि के नट अर्थात ईश्‍वर द्धारा बनाया गया माया विकट है, यदि उस नट की सेवारत रहा जाये तो यह विकटता  उसे नहीं व्‍यापता । काल कर्म का प्रभाव तो होगा उसका भोग देह को भी होगा किन्‍तु मन को नहीं क्‍योंकि -‘मन जहँ जहँ रघुबर बैदेही । बिनु मन तन दुख सुख सुधि के‍हि’ जब मन ईश्‍वर भक्ति में लगा हो तो बिना मन के तन को होने वाले सुख दुख की अनुभूती ही किसे होगी ?

खलउ करहिं भल पाइ सुसंगू-

खलउ करहिं भल पाइ सुसंगू । मिटइ न मलिन सुभाउ अभंगू

अर्थ-

खल भी अच्‍छी संगती पाकर भलाई करने लगते हैं किन्‍तु उनके मन का स्‍वभाव मिटता नहीं जैसे ही वह कुसंग के प्रभाव में आता है भलाई करना छोड़ देता है ।

गुणार्थ-

संत और खल दोनों का स्‍वभाव स्थिर रहता है किन्‍तु दोनों में एक भेद है संत भलाई करने के गुण को किसी भी स्थिति में नहीं छोड़ता वहीं खल परिस्थिति के अनुसार बदल जाते हैं जब सुसंग का प्रभाव होता है वह भलाई करने लगते किन्‍तु कुसंग के प्रभाव में आते ही अपने मूल स्‍वभाव के अनुसार भलाई करना छोड़ देता है ।

लखि सुबेष जग बंचक जेऊ-

लखि सुबेष जग बंचक जेऊ । बेष प्रताप पूजिअहिं तेऊ
उघरहिं अंत न होइ निबाहू । कालनेमि जिमि रावन राहू

अर्थ-

दुनिया में जो बंचक अर्थात कपटी हैं सुंदर वेष अर्थात साधु के वेष को धारण करने के कारण केवल वेष के प्रभाव से पूजे जाते हैं । जो कपटी केवल सुंदर वेष के कार पूजे जाते हैं अंत उनका कपट खुल ही जाता है जिस प्रकार हनुमान के पथ के बाधा बने कपटी साधु कालनेमी, सीताहरण के साधु बने रावण और अमृतपान करने दैत्‍य राहू का कपटी देव रूप का भेद खुल गया ।

गुणार्थ-

छद्म का आज नहीं कल पर्दाफााश होना ही होना है । इसलिये बनावटी चरित्र का दिखावा न करें अपितु अपने चरित्र में परिवर्तन लावें । यह परिवर्तन केवल सुसंग अच्‍छे लोगों की संगति में बने रहने से ही संभव है । अपने मानसिक शक्ति में व;द्धि करने के लिये अपने आत्‍मबल को जागृत करने के लिये सही संगत का चयन कीजिये ।

हानि कुसंग सुसंगति लाहू-

हानि कुसंग सुसंगति लाहू । लोकहुं बेद बिदित सब काहू

अर्थ-

कुसंग से हानि और सुसंग से लाभ होता है । इस बात को सभी कोई जानते हैं हमारे वेदों ने भी इसी बात का उपदेश किया है ।

गुणार्थ-

वेदों द्वारा अनुमोदित इस तथ्‍य को सभी जानते हैं कि कुसंग से केवल नुकसान ही होता और सुसंग केवल लाभ ही लाभ । जानते तो सभी कोई हैं किन्‍तु इस बात अंगीकार करने वाल विरले ही हैं । विरले ही लोग साधु होते हैं, इन्‍हें ही संत की संज्ञा दी जाती है ।

गगन चढ़इ रज पवन प्रसंगा-

गगन चढ़इ रज पवन प्रसंगा । कीचहिं मिलइ नीच जल संगा

अर्थ-

तुलसीदास धूल की संगति का उदाहरण देते हुये कहते हैं कि धूल वही किन्‍तु संगति के प्रभाव से उसका महत्‍व अलग-अलग हो जाता है । जब धूल वायु के संपर्क में आता है तो वायु के साथ मिलकर आकाश में उड़ने लगता है किन्‍तु जब वही धूल जल की संगति करता है किचड़ बन कर पैरों तले रौंदे जाते हैं ।

गुणार्थ-

जब धूल जल के साथ मिलकर कीचड़ बन जाता है तो उस कीचड़ को पवन उड़ा नहीं सकता उसी प्रकार कुसंगति के अधिक प्रभाव हो जाने पर संत उस मूर्ख को नहीं सुधार सकता-

'फूलइ फरइ न बेत, जदपि सुधा बरसइ जलद । 
मूरूख हृदय न चेत, जो गुरू मिलहिं बिरंचि सम ।।

साधु असाधु सदन सुकसारी-

साधु असाधु सदन सुकसारी ।सुमरहि रामु देहिं गनिगारी

अर्थ-

साधु और असाधु दोनों घरों के पालतू तोता में भी संगति का अंतर स्‍पष्‍ट रूप से देखा जा सकता है । साधु के सानिध्‍य का तोता राम-राम बोलता है जबकि असाधु के संगत वाला तोता गिन-गिन कर गालियां देता है ।

गुणार्थ-

संगति का प्रभाव वृहद और अवश्‍यसंभावी होता है । जिस प्रकार गिरगिट परमौसम और परिवेश का यह प्रभाव होता है उसके शरीर का रंग बदल जाता है । 

‘संत संग  अपवर्ग कर, कामी भव कर पंथ ।’ संतो का सतसंग करना स्‍वर्ग दिला सकता है वहीं कामी का संग करना संसार रूपी भव सागर डूबो देती है ।

धूम कुसंगति कारिख होई-

धूम कुसंगति कारिख होई । लिखिअ पुरान मंजु सोई
सोइ जल अलन अनिल संघाता । होइ जलद जग जीवन दाता

अर्थ-

धुँआ की संगति को परख कर देखिये वहीं धुँआ कुसंगति के प्रभाव से धूल-धूसरित होकर कालिख बन अपमानित होता है तो वही धुँआ सत्‍संगति के प्रभाव से स्‍याही बन पावन ग्रंथों में अंकित होकर सम्‍मानित होता है । वहीं धुऑं जल अग्नि और वायु के संपर्क में आकर मेघ बना जाता है और यही मेघ दुनिया के जीवनदाता कहलाता है ।

गुणार्थ-

संगति व्‍यक्ति के संपूर्ण व्‍यक्तित्‍व और कर्म को प्रभावित कर सकता है । कुसंग के प्रभाव से जहां वह जगत के लिये भार होता है वहीं सुसंग के प्रभाव जगत के लिये मंगलकारी ।

ग्रह भेषज जल पवन पट-

ग्रह भेषज जल पवन पट, पाइ कुजोग सुजोग ।
होहिं कुबस्‍तु सुबस्‍तु जग लखहिं सुलच्‍छन लोग ।।7।।

अर्थ-

ग्रह, औषधि, जल, वायु और वस्‍त्र संगति के कारण भले और बुरे हो जाते हैं । ज्‍योतिषशास्‍त्र के अनुसार कुछ ग्रह शुभ और कुछ ग्रह अशुभ होते हैं किन्‍तु द्वादश भाव में विचरण करते हुये किसी स्‍थान शुभ परिणाम देते हैं तो किसी स्‍थान पर अशुभ परिणाम देते हैं ।  आयाुर्वेद के औषधि के लिये पथ्‍य-अपथ्‍य निर्धारित हैं । यदि पथ्‍य पर औषधि अच्‍छे परिणाम देते हैं जबकि अपथ्‍य से बुरे परिणाम हो सकते हैं ।  वायु सुंगंध के संपर्क में होने पर सुवासित और दुर्गंध के संपर्क में होने सडांध फैलाता है । इसी प्रकार शालिनता के संपर्क में वस्‍त्र पूज्‍य हो जाते हैं जबकि अश्लिलता के संपर्क से तृस्कृत होते हैं ।

गुणार्थ-

एक वस्‍तु के दूसरे वस्‍तु के संपर्क में आने पर या एक व्‍यक्ति के दूसरे व्‍यक्ति के संपर्क में आने पर एक दूसरे के गुणों में सकारात्‍मक या नकारात्‍मक परिवर्तन अवश्‍यसंभावी हैं । अपने अंदर सकारात्‍मक परिवर्त करने लिये ऐसे परिवेश, ऐसे मित्रों या ऐसे सहचर्यो का चयन करना चाहिये जिससे अच्‍छे विचार जागृत हों, अच्‍छे कर्मो को करने की प्रेरणा मिले ।

Categories
छंद साहित्‍य रत्‍न

पढ़ा-लिखा खुद को कैसे बतलाऊँ

चौपाई छंद

 पढ़ा-लिखा खुद को कैसे बतलाऊँ
पढ़ा-लिखा खुद को कैसे बतलाऊँ
पढ़-लिख कर मैंने क्‍या पाया । 
डिग्री ले खुद को भरमाया ।।
काम-धाम मुझको ना आया ।
केवल दर-दर भटका खाया ।।


 फेल हुये थे जो सहपाठी । 
 आज धनिक हैं धन की थाती । 
सेठ बने हैं बने चहेता । 
अनपढ़ भी है देखो नेता ।।


श्रम करने जिसको है आता । 
दुनिया केवल उसको भाता  ।। 
बचपन से मैं बस्‍ता ढोया । 
काम हुुुुनर मैं हाथ न बोया ।।


ढ़ूढ़ रहा हूँ कुछ काम मिले ।
दो पैसे से परिवार खिले ।।
पढ़ा-लिखा मैं तनिक अनाड़ी । 
घर में ना कुछ खेती-बाड़ी ।।


दुष्‍कर लागे  जीवन मेरा ।
निर्धनता ने डाला डेरा ।। 
दो पैसे अब मैं कैसे पाऊँ । 
पढ़ा-लिखा खुद को बतलाऊँ ।। 


-रमेश चौहान